Friday, September 26, 2014

तू है


मेरी चाहत तू, मेरी जिंदगी तू, मेरा ईमान तू है
खलिस है तू दिल की, आराम तू है

कुदरत की रहमत तू, इश्क का पयाम तू है
छाया है मुझ पर जिसका सुरूर वो जाम तू है

शबनमी बूंद सा मखमल खयाल तू है
ढलते सूरज की अंगड़ाई सा अल्हड़ ख्वाब तू है

मेरी आशिकी का खूबसूरत कलाम तू है
जिसके बिना न जी पाऊं मैं वो हंसी नाम तू है

मेरा मकसद तू, मेरा जहां तू, मेरा मुस्तकबिल तू है
जिस राह से भी मैं गुजरूं उसकी मंजिल तू है

सालों से की हुई मोहब्बत का अंजाम तू है
खुदा से की हर मन्नत का ईनाम तू है

मेरी चाहत तू, मेरी जिंदगी तू, मेरा ईमान तू है
खलिस है तू दिल की, आराम तू है

Sunday, September 21, 2014

बस तुम्हीं हो

तुम्हारे ख्वाबों ने मेरे मन में कुछ ऐसा मकाम बनाया है
कि हर पल मेरे खयालों में बस तुम्हारा ही नाम छाया है

तुम्हारा हाथ थामकर कट जाएगा जिंदगी का सफर
तुम्हारे साथ ही बीतेगा अब हर मौसम और पहर

तुम्हारी आंखों की कशिश में हर शाम डूबा करेंगे
तुम्हारी बाहों के घेरे में ही अब दिन और रात कटेंगे

पहली हो या आखिरी मेरी मोहब्बत बस तुम्हीं हो
हर पल जो मैं करती हूं वो इबादत बस तुम्हीं हो

जिस्म-ओ-जान से अब तुम्हारे बनकर हम जिएंगे
तुम्हारी गोद में सिर रखकर ही हम मौत से मिलेंगे

Tuesday, September 9, 2014

जिसे आता प्यार निभाना है


दुआओं बद्दुओं का नाता बहुत पुराना है
जो किस्मत है मिलेगा वही ये तो सबने माना है

मुश्किल हालात में भी हिम्मत जुटाना है
लहरों से लड़कर ही दरिया के पार जाना है

जिंदगी इतनी भी नहीं है आसां जितनी बचपन में लगती है
जवानी में कदम रखने पर इस मर्म को जाना है

दाव-पेच ऊंची-नीच का खेल ये जमाना है
जीतता वही है इसमें जिसे आता प्यार निभाना है

Friday, September 5, 2014

शिक्षक दिवस पर


तुमने ही दी सतत शिक्षा हमेशा ज्ञान की
राह पर चलना सिखाया नीति और सम्मान की

सूरज सा तेज तुममे हैं और चांद सी शीतलता
स्रेह की बारिश से तुमने जीवन हमारा सींचाा

जब भी भटके हम तुमने रास्ता दिखाया
सही और गलत का फर्क तुमने ही सिखाया

शिक्षा हो विषय की या नैतिकता का ज्ञान
कहा था तुमने कि इतना कभी न झुकना 
कि झुक जाए स्वाभिमान

गुरु हो तुम हमारे, हो ईश्वर के समान
शिक्षक दिवस पर तुमको कोटि-कोटि प्रणाम

Tuesday, September 2, 2014

यकीं है मुझे


मुहब्बत पे तुम्हारी यकीं है मुझे 
पर किस्मत पर अपनी भरोसा नहीं

पास रहना तुम्हारे है मुश्किल बहुत
दूर जाना भी तुमसे है मुमकिन नहीं

एक बारी तो करीब आकर देखो मुझे 
दिल तो है सीने में पर धड़कन नहीं

कहते हैं सब तुम्हारे साथ होगी
जिंदगी बदतर हमारी
बिन तुम्हारे भी तो अब जन्नत नहीं

कहना है हमें आज तुमसे बस इतना 
कि तुम जो नहीं तो हम भी नहीं