Friday, March 1, 2013

कौन है वो


कभी तपती धूप में भी जुगनू सा चमकता है वो
कभी चांद की  रोशनी में दिए सा जलता है वो
कभी लाल गुलाब पर गिरी शबनमी बूंद की तरह इतराता है वो
कभी मां के गले में पड़ी तस्बीह के दाने जैसा इठलाता है वो
कभी आसमान में बादलों के झुंड सा नजर आता है वो
कभी बारिश की बूंदों सा धरती पर गिर जाता है वो
कभी मुझे ख्वाबों में जगाकर खुद सो जाता है वो
कभी दादी की लोरी की तरह मुझे थपथपाता है वो
कभी जमीन पर उगी घास की तरह पैरों को गुदगुदाता है वो
कभी पेड़ की डाल पर बैठी कोयल की तरह गुनगुनाता है वो
कभी बहती हवा में मोगरे की सुगंध सा बिखर जाता है वो
कौन है वो, कहां है वो
मेरे ही सवालों में मुझे उलझाता है वो,
कहां-कहां मैं ढूंढूं उसे,
हर जगह तो मुझे नजर आता है वो....