Monday, February 18, 2013

लड़का और लड़की


कई दिन हो गए उनका इंतजार करते हुए
लेकिन अभी तक नहीं आए वो
कहा था उनसे कि इस बार थोड़ा जल्दी आना
पापा-मम्मी से बात करना हमारी शादी की
लेकिन वो तो ऐसे गए कि अब तक न आए
कहां गए, क्यों गए कुछ बताया ही नहीं
बहुत कोशिश की पता लगाने की कि कहां हैं वो
एक दिन उनके एक दोस्त को कहते सुना था कि
किसी और के साथ कर ली है उन्होंने शादी
लेकिन सुन कर भी कानों को भरोसा न हुआ
दिल को विश्वास है कि वो ऐसा कुछ कर ही नहीं सकते
बहुत प्यार करते हैं वो मुझसे
लेकिन हो भी तो सकता है,
याद आया कि कुछ दिनों से एक लड़की से
कुछ ज्यादा ही बातें करने लगे थे वो
कहीं उससे ही तो नहीं, नहीं ऐसा नहीं हो सकता
वो तो सिर्फ दोस्त थी उनकी, दोस्तों से शादी थोड़े ही करते हैं
दिल को समझाकर फिर करने लगी उनका इंतजार
अचानक एक दिन दरवाजे पर दस्तक हुई
सामने खड़े थे वो और उनके साथ उनकी दोस्त
लेकिन अब तो वो उनकी बीवी बन चुकी थी
एक पल को तो लगा जैसे कि ये हकीकत नहीं सपना है
अपना दिल ही अपनी आंखों पर  यकीन नहीं कर पा रहा था
उनसे कहा ये तो आपकी दोस्त थी न,
लेकिन फिर खुद ही अपने सवाल का जवाब मिल गया
कई लोगों की कही और कई बार सुनी हुई बात याद गई
‘‘लड़का और लड़की कभी ''सिर्फ'' दोस्त नहीं हो सकते’’

6 comments:

  1. बहुत ही मर्म स्पर्शी लिखा है आपने।

    कई लोगों की कही और कई बार सुनी हुई बात याद गई
    ‘‘लड़का और लड़की कभी ''सिर्फ'' दोस्त नहीं हो सकते’’

    मगर अधिकतर ऐसा सिर्फ संकुचित सोच और अविश्वास के कारण होता है।

    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत से प्रश्नों के उत्तर मांगती हुई सार्थक पोस्ट........

    ReplyDelete
  3. ये समय का दोष है ... पर ऐसा नहीं है की लड़का लड़की दोस्त नहीं बन सकते ...
    ऐसा होना तो नहीं चाहिए ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति .एक एक बात सही कही है आपने दामिनी गैंगरेप कांड :एक राजनीतिक साजिश ? आप भी जानें हमारे संविधान के अनुसार कैग [विनोद राय] मुख्य निर्वाचन आयुक्त [टी.एन.शेषन] नहीं हो सकते

    ReplyDelete
  5. aakhir maan hi gaye aap bhi meri baat........bahut aacha likha.

    ReplyDelete