Saturday, July 5, 2014

तुम चुप रहो



एक नन्ही सी कली के टूटे-फूटे स्वर
जैसे ही सधकर निकलना शुरू होते हैं
तभी से उसे चुप रहने का पाठ पढ़ाया जाता है
चुप रहना ही है लड़कियों का गहना 
उन्हें यह समझाया जाता है
जैसे-जैसे वे बड़ी होती जाती हैं
उनके बोलने पर बंदिशे बढ़ती जाती हैं
तुम चुप रहो, लड़कियां ज्यादा बोलते हुए
अच्छी नहीं लगतीं, ये कहकर
बंद करा दिया जाता है उनका मुंह
और बाहर निकलने को बेताब उनके शब्द
अंदर ही घुटकर तोड़ देते हैं अपना दम
जब भी  वे कोशिश करती हैं कुछ बोलने की
उनके सामने पेश कर दिये जाते हैं 
कई ऐसी लड़कियों के उदाहरण
जिनके कम बोलने से ही उनके 
अच्छा होने की सार्थकता सिद्ध होती है
कभी नहीं बोल पातीं वे 
पहले बाप के डर से, समाज के डर से
फिर कभी पति के डर से, कभी सास के डर से
एक दिन सोचा मैंने कि क्या करती हैं
आखिर वे अपने अनकहे शब्दों का
शायद सहेजती रहती होंगी उन्हें और
गुंथकर बना लेती होंगी उनकी एक माला
फिर जब इस दुनिया को छोड़ वे 
चली जाती होंगी दूसरी दुनिया में
तब श्रद्धांजली स्वरूप अपनी लाश पर
चढ़ा लेती होंगी अपने ही शब्दों की माला
फिर शब्द भी बिखर जाते होंगे स्वछंद हवा में
ये सोचकर कि कभी तो कोई स्त्री आएगी
जो अपने स्वरों में पिरोकर हमें पूरी दुनिया को सुनाएगी

34 comments:

  1. अपना डर खत्म करना होगा और बोल्न होगा क्योंकि अब समय चुप रहने का नहीं है।

    मर्मस्पर्शी रचना।


    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने अब समय खुलकर बोलने का है चुप रहने का नहीं
      सादर आभार

      Delete
  2. बहुत ही खूबसूरत भाव लिए है है ये रचना। पैदाइश के पहले भी और जीवन भर उसे अपने शब्दों को पीकर जिन पड़ता है. समाज को सोचने पर मजबूर करती है ये पंक्तियाँ

    आखिर वे अपने अनकहे शब्दों का
    शायद सहेजती रहती होंगी उन्हें और
    गुंथकर बना लेती होंगी उनकी एक माला
    फिर जब इस दुनिया को छोड़ वे
    चली जाती होंगी दूसरी दुनिया में
    तब श्रद्धांजली स्वरूप अपनी लाश पर
    चढ़ा लेती होंगी अपने ही शब्दों की माला
    फिर शब्द भी बिखर जाते होंगे स्वछंद हवा में
    ये सोचकर कि कभी तो कोई स्त्री आएगी
    जो अपने स्वरों में पिरोकर हमें पूरी दुनिया को सुनाएगी

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया स्मिता

      Delete
  3. तुम चुप रहो, लड़कियां ज्यादा बोलते हुए
    अच्छी नहीं लगतीं, ये कहकर
    बंद करा दिया जाता है उनका मुंह
    और बाहर निकलने को बेताब उनके शब्द.........................वास्तविकता से अवगत करते हुए..............

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद प्रभात जी

      Delete
  4. मर्म को छूते शब्द ... अक्सर लड़कियों के साथ बचपन से ही ऐसा होता है ...
    इस परिपाटी को तोडना होगा ... लड़कियों को ये वर्जनाएं तोडनी होंगी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने लड़कियों वर्जनाएं तोड़नी होंगी
      धन्यवाद सादर

      Delete
  5. Replies
    1. जी सुशील जी बोलना ही होगा

      Delete
  6. बहुत ही सुंदर सार्थक और बहुत कुछ सिखाती समझाती चेताती रचना ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद
      सादर

      Delete
  7. ब्लॉग बुलेटिन आज की बुलेटिन, गुरु गुरु ही होता है... ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद

      Delete
  8. कल 08/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद

      Delete
  9. सार्थक ...मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  10. धन्यवाद मैम

    ReplyDelete
  11. अच्छी कविता ... नारी उत्पीड़न एवं भारतीय समाज मे नारी के प्रति किए जा रहे बर्ताव को दर्शाती सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद
      सादर

      Delete
  12. ये ज़ंजीरें अब स्वयं ही तोड़नी होंगी...बहुत मर्मस्पर्शी रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ कैलाश जी
      महिलाओं को अपनी जज़ीरें खुद ही तोड़नी होंगी
      सादर आभार

      Delete
  13. बहुत ही सुंदर और सार्थक .......

    ReplyDelete
  14. बढ़िया सुंदर लेखन व बढ़िया ब्लॉग , अनुषा जी धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  15. आखिर अपने मर्म को कब तक दबाती रहेगी बिटिया , बोलना तो होगा ही , यह बहुत जरुरी है

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने बेटियों का बोलना भी उतना ही जरूरी है जितना बाकी सब का ।।

      Delete
  16. Dil ki taar ko hilaate hue guzare aapki rachna k har shabd Anusha ji... Shubhkamnayein dhero...

    ReplyDelete
  17. मन की भावनाओं का दरिया बह चला इस कविता के माध्यम से. सुंदर प्रस्तुति. बधाई....!!!

    ReplyDelete