Sunday, July 20, 2014

मुश्किल होता है


दिल की बातों को अल्फाज दे पाना मुश्किल होता है
किसी-किसी राज को दुनिया को बताना मुश्किल होता है

यूं तो जी लेंगे हम तुम्हारे बिना भी जिंदगी
पर दिए के बिना बाती का अस्तित्व बचाना मुश्किल होता है

इस जहां में बातें तो करते हैं सब बड़ी-बड़ी
पर जब खुद पर गुजरे तो सह पाना मुश्किल होता है

कहते हैं खुश रहो उसमें जिसमें खुदा की हो मर्जी
पर कई बार उसकी मर्जी के आगे सिर झुकाना मुश्किल होता है

सुनाते हैं यहां सब किस्से शमां और परवाने की मोहब्बत के
पर परवाने के लिए शमां में जल जाना भी मुश्किल होता है

राधा और कृष्ण के प्यार की यहां देते हैं सब मिसालें
पर राधा-कृष्ण के जैसा प्यारा निभाना मुश्किल होता है

अपनी चाहत के लिए मर जाना माना बुजदिली है मैंने
पर उसके बिना जी पाना भी मुश्किल होता है

ये इश्क की बातें हैं सिर्फ समझेंगे आशिक ही
संगदिलों का इन्हें समझ पाना मुश्किल होता है

36 comments:

  1. main bilkul sehmat hun apse....sundar rachna

    ReplyDelete
  2. पर उसके बिना जी पाना भी मुश्किल होता है
    वाह।। बहुत खूबसूरत एहसास।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार स्मिता जी

      Delete

  3. जी तो लेंगे तेरे बिन भी,भी दुनियां में जैसे तैसे
    बिना दिए ,बाती को बचाना , मुश्किल होता है !

    यूँ इस जहाँ में बाते करते सारे आकर बड़ी बड़ी
    जब खुद पर गुज़रे , सहपाना मुश्किल होता है !

    प्रभावी भावाव्यक्ति है , बधाई !

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अरमान जी

      Delete
  5. सच मे बहुत मुश्किल होता है :)

    ReplyDelete
  6. कहते हैं खुश रहो उसमें जिसमें खुदा की हो मर्जी
    पर कई बार उसकी मर्जी के आगे सिर झुकाना मुश्किल होता है
    सच में मुश्किल होता है ... हर मर्जी को सहना ...
    लाजवाब शेर है ग़ज़ल का ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार दिगंबर जी

      Delete
  7. बहुत सुन्दर ग़ज़ल बनी है.

    ReplyDelete
  8. भावों से नाजुक शब्‍द को बहुत ही सहजता से रचना में रच दिया आपने.........

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत रचना |आभार सहित

    ReplyDelete
  11. वाह...बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मुकेश के जन्मदिन पर.

    ReplyDelete
  12. अंतिम पंक्यिां बहुत अच्‍छी लगीं

    ReplyDelete
  13. सभी पंक्तियाँ एक से एक सुन्दर लगी !
    खासकर यह
    ये इश्क की बातें हैं सिर्फ समझेंगे आशिक ही
    संगदिलों का इन्हें समझ पाना मुश्किल होता है
    जैसे खुशबु के बारे समझाया नहीं जा सकता वैसे ही इश्क के बारे में
    यह तो सिर्फ दिल से महसूस करने की चीज है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार सुमन जी

      Delete
  14. पहली ही पंक्ति से अपनी दमदार होनी का इशारा करती सार्थक रचना

    ReplyDelete